Ratan tata के बारे में जानकर हैरान रह जाएंगे आप |Ratan tata biography

Ratan tata
ratan tata कोण है, ratan tata biography in Hindi, ratan tata net worth, age, Bharat Ratna, date of birth, quotes

Ratan Tata | रतन टाटा

रतन टाटा Ratan tata दूर की सोच रखने वाला वो साक्ष जो मुनाफे से पहले लोगों को रहक्ता है। जिसके नाम के मैंने हो वुसूल और लोगों का भला रतन नवल टाटा, आते है उन जमशेद जी टाटा के खानदान से जिन्हे भारतीय उद्योग का जनक कहा जाता है। और जिन्होंने 1870 के दशक में विशाल टाटा समूह की बुनियाद राखी थी । सौ से ज्यादा साल बाद रतन टाटा ने टाटा समूह का चैयरमेन बनकर इसे कंपनियों की बेहतरीन भारतीय समूह से दुनिया का विशाल समूह बनाया। आज इस भूत पूर्व चैयरमेन को भारत के और फिर शायद दुनिया के बेहतरीन उद्योग पतियों, निवेशकों और समझ सेवकों में गिना जाता है । चलिए जानते है इनके जीवनी के बारे में की कैसे इन्होने इतना बड़ा नाम कमाया।

ratan tata

Ratan tata biography in Hindi | रतन टाटा की जीवनी

Ratan tata biography in Hindi: रतन टाटा का जन्म 28 दिसंबर, 1937 को भारत के सूरत शहर में हुआ। रतन टाटा के पिता का नाम नवल टाटा है, रतन टाटा को नवजबाई टाटा ने अपने पति रतनजी टाटा के मृत्यु के बाद गोद लिया था। इनके माता पिता ( नवल टाटा और सोनू टाटा ) मध्य 1940 के दशक में एक दूसरे से अलग हो गए तब रतन टाटा दस साल के थे और उनके छोटे भाई जिमि साथ साल के थे । फिर दोनों भाइयों का पालन पोशण उनकी दादी नवजबाई टाटा करने लगी । और रतन टाटा का एक सौतेला भाई भी है जिसका नाम नवल टाटा है । रतन टाटा ने अपनी आठवीं कक्षा तक इन्होने campion school में की उसके बाद रतन टाटा us चलेगये जहँ वे बाकि की पढाई Harvard business school से पूरी की। और इन्होने अपनी ग्रेजुएशन आर्किटेक के फिल्ड में cornell university से पूरी की है इनके रिपोर्ट्स के मुताबिक रतन टाटा अपनी स्कूल में और अपनी यूनिवर्सिटी में काफी होशियार और काफी चालाक स्टूडेंट थे । ग्रेजुएशन के बाद इन्होने अपना भविष्य आर्किटेक में ही बनाना चाहा , लेकिन वो एक बिसनेस फॅमिली से आते थे । तो इसी कारन उन्हें ख्याल आया की आर्किटेक फिल्ड में भविष्य बनाने से अछा है । अपने बिज़नेस को आगे लेके जाये । अपने इस हुनर को देखते हुए इन्होने 1975 में Harvard university से बिज़नेस मैनेजमेंट की भी डिग्री हासिल कर ली ।

Ratan tata life story | रतन टाटा की जीवन कहानी

रतन टाटा की जीवन कहानी : सन 1947 उस वक्त से पहले की है । भारत के आज़ादी के पहले की जब दस साल के Ratan tata को हालत के तमाशाई रहना गवारा न हुआ । रतन टाटा की परवरिश उनकी दादी नवजबाई ने की थी । जो की टाटा लीडर संस में पहली लीडर डायरेक्टर थी , उनके अपने पोते पर उनकी अपनी घरी चाप पड़ी थी । उसूलों और बड़पन का आएसा नगरीय पैदा किया वो उनकी दादी ही थी । बचपन के काफी दिन गुजरे थे अपनी दादी के साथ । रतन टाटा को भारत के दूसरे सबसे बड़े सामान पद्म विभूषण से नवाजा जा चूका है । सॉफ्टवेयर से नमक तक कई कारोबारी करने वाले रतन टाटा ने विरासत में छोड़ी है समाज सेवा , जिसकी बराबरी कुछ ही कारोबार करपये है । रतन टाटा के कमान संभाल ने से पहले जहांगीर रतनजी ददभोय टाटा पचास साल से भी ज्यादा टाटा समूह के चैयरमेन रहे है । भारत के पहले लाइसेंस पायलट और इंडियन एयरलाइन्स के बुनियाद रखने वाले जहांगीर रतनजी ने समूह की आमदनी दस करोड़ से पांच अरब तक पौंछा दी थी ।

शुरू में Ratan tata एक लॉस एंजेलेस के आर्किटेक के ऑफिस में काम किया करते थे, लेकिन वहां से वो वापस अये कनकी उनकी दादी बहोत बीमार थी लग भाग चार से पांच साल बीमार रही । तो रतन टाटा उन्ही के पास ज्यादा रहने लगे । रतन टाटा उसवक्त टेल्को में शॉप फ्लोर छे महीने तक काम किया । कंपनियों में रतन टाटा के कुछ साल परेशानियों और मायूसी से गुजरे थे । 1971 का ऐसा ही वक्त था जब उनको टाटा समूह के नेशनल रेडियो और इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी ऑफ़ इंडिया या नेलको में भेजा गया था । एक के बाद एक चुनौतियां आयी , लेकिन रतन टाटा को कोई भी मुश्किल हालत नै चीज़ नहीं थी । ” एक बार 1955 कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में ग्रेजुएशन करते हुए उन्होंने एक बहोत बड़ी चुनौती का सामना किया था उडान का मज़ा लेने के लिए तीन यात्रियों को तैयार करलिया लेकिन जहाज का एक अन्ज़ीन ख़राब हो गया , लेकिन फिर भी उन्होंने प्लेन को बिना खरोच पहुंचाए लैंड करदिये। मुश्किल हालत में आसान रास्ता खोजना शायद उन्हें बचपन से ही था ।

असि के दशक के शुरवात में रतन टाटा को टाटा समूह में करीब 20 साल हो चुके थे । एक काफी मशहूर सर नेम के आलावा उनके पास दिखाने को खास कुछ भी नहीं था। चवालीस के उम्र में उन्हें टाटा इंडस्ट्रीस की जिम्मेदारी दी गयी जो एक शेल कंपनी थी, जिसके हाथ में कुछ नहीं था। जहां वो कारोबारी के परेशानियों में जुंछ रहे थे , वही उन्हें खुद पर बीते सदमे से भी दुचार होना पड़ा , उनकी माँ को कैंसर हो गया । और बड़ा मुश्किल वक्त था उनके लिए , अपने माँ से काफी लगाव था उन और वे अपनी माँ के साथ अस्पताल में काफी दिन बिताये वाहन जा कर । रतन टाटा का अपनी सोच पर भरोसे से आगे बढ़ना ही शायद जेआरडी को पसंद आया और उन्होंने रतन टाटा को अगले चैयरमेन के तौर पर बनाने का फैसला लिया जिसे बोर्ड के कई सदस्य खुश नहीं थे ।

कंपनी के लिए Ratan tata के बनाये उमीदो भरे रणनीतिक योजना के लिए जरुरी था की भारत की इक्नोमिक्स पोल्य्सिस में बदलाव हो । जिसके लिए उन्होंने कदम मिलाय देश के तैराकी पसंद प्रधानमंत्री के साथ । 1991 में यहाँ रतन टाटा , टाटा समूह के चैयरमेन बने , उधर बदकिस्मती से राजीव गाँधी की हत्या हो गई । भारत में कंपनियों के सबसे बड़े समूह की अगवाई करते हुए उन्हें लगा की समूह की कामियाबी सब कंपनियों को एक ही नाम देने में है । इस तरह टाटा समूह को इसके पांचवे चैयरमेन रतन टाटा ने एक ब्रांड की पहचान दी । समूह की रिब्रांडिंग के पहल और भारत के बाज़ारों का उधारी कारन शुरू होने पर रतन टाटा ने एक बड़ा अहम् कदम उठाया । उन्होंने उस वक्त के सबसे बड़े कोमेर्टिकल वेहिकल मनुफेक्टर्स टाटा मोटर्स में भारत की पहली स्वदेशी पैसेंजर कार बनाने का फैसला किया ।10 साल के टाटा मोटर्स ने इंडिका प्लेटफार्म से अपनी दस लखवी पैसेंजर कार तैयार की indica  पहली भारतीय कार बनी जो यूनाइटेड किंगडम में city rover के नाम से बेचीं गयी । कारों के लिए रतन टाटा के लगाव को देखते हुए टाटा मोटर्स जल्द ही नाइ सोच का पसंदीदा जरिया बन गयी, उनका रणनीतिक योजना रंग लायी । रतन टाटा भारत के सबसे बड़े कारोबारी समूह को दुनिया के नक़्शे पर लाना चाहते थे । इसे शुरुवात हुई दूसरे देशोंके कंपनियों को समूह में जोड़ने की जाबाज कदम की सबसे पहले आयी tetley tea दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा टी ब्रांड , फिर लिए गए सिंगापूर और थाईलैंड के सबसे बड़े स्टील और स्टील के उत्पाद निर्माता जिसने टाटा स्टील की ग्लोबल रैंकिंग एकदम से 56 से 28 पर पौंछा दी । और टाटा मोटर्स के जरिये समूह गार्थ में जाती एक जनि मणि ब्रिटिश कम्पनी को मुनाफा देने वाली कम्पनी बने वाला था । आज टाटा समूह उनमे से एउरोपिन कंपनियों का मालिक है जिनमे सिर्फ यूरोप में ही 60,000 से ज्यादा लोग काम करते है । रतन टाटा के चैरमेन्शिप में income 1991 में $10 Billion  से 2012 में $100 Billion  तक जा पौंची थी। इसके बावजूद भी रतन टाटा की बुनियादी सोच दूसरे की भलाई ही रही यानि बिना गरज लोगों के भले की चिंता करना । 2012 में 75 साल के रतन टाटा ने टाटा के समूह के देखरेख के काम से ऑफिशली रिटायर ले लिए । फिर भी अपने शौरत के बुते पर बैठे नहीं रहे जाने की इच्छा और बेताबी ने उन्हें आगे बढ़ाये रखा ।

Honors and awards | सम्मान और पुरस्कार

वर्षपुरस्कारसंगठन
2015मानदएचईसी पेरिस
2015ऑटोमोटिव इंजीनियरिंग की मानद डॉक्टरक्लेमसन विश्वविद्यालय
2014कानून की मानद डॉक्टरन्यूयॉर्क विश्वविद्यालय, कनाडा
2014ब्रिटिश साम्राज्य के आदेश के मानद नाइट ग्रैंड क्रॉसयूनाइटेड किंगडम
2014सयाजी रत्न पुरस्कारबड़ौदा मैनेजमेंट एसोसिएशन
2014व्यापार के मानद डॉक्टरसिंगापुर मैनेजमेंट यूनिवर्सिटी
2013डॉक्टरेट की मानद उपाधिएम्स्टर्डम विश्वविद्यालय
2013व्यापार व्यवहार के मानद डॉक्टरकार्नेगी मेलॉन विश्वविद्यालय
2013अर्नस्ट और वर्ष का सर्वश्रेष्ठ युवा उद्यमी – लाइफटाइम अचीवमेंटअर्न्स्ट एंड यंग
2013विदेश एसोसिएटनेशनल एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग
2012व्यापार मानद डॉक्टरन्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय
2012मानद फैलोइंजीनियरिंग की रॉयल अकादमी
2010इस साल के बिजनेस लीडरएशियाई पुरस्कार
2010कानून की मानद डॉक्टरपेपरडाइन विश्वविद्यालय
2010लीडरशिप अवार्ड में लीजेंडयेल विश्वविद्यालय
2010शांति पुरस्कार के लिए ओस्लो व्यापारशांति प्रतिष्ठान के लिए व्यापार
2010हैड्रियन पुरस्कारविश्व स्मारक कोष
2010लॉ की मानद डॉक्टरकैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
2009इतालवी गणराज्य की मेरिट के आदेश के ‘ग्रैंड अधिकारी’ का पुरस्कारइटली की सरकार
20092008 के लिए इंजीनियरिंग में लाइफ टाइम योगदान पुरस्कारइंजीनियरिंग इंडियन नेशनल एकेडमी
2009ब्रिटिश साम्राज्य के आदेश के मानद नाइट कमांडरयूनाइटेड किंगडम
2008प्रेरित होकर लीडरशिप अवार्डप्रदर्शन रंगमंच
2008मानद फैलोशिपइंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी संस्थान
2008मानद नागरिक पुरस्कारसिंगापुर सरकार
2008साइंस की मानद डॉक्टरइंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी खड़गपुर
2008साइंस की मानद डॉक्टरइंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मुंबई
2008लॉ की मानद डॉक्टरकैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
2008लीडरशिप अवार्डलीडरशिप अवार्ड
2007परोपकार की कार्नेगी पदकअंतर्राष्ट्रीय शांति के लिए कार्नेगी एंडोमेंट
2007मानद फैलोशिपअर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान के लंदन स्कूल
2006जिम्मेदार पूंजीवाद पुरस्कार
2006साइंस की मानद डॉक्टरइंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मद्रास
2005साइंस की मानद डॉक्टरवारविक विश्वविद्यालय
2005अंतर्राष्ट्रीय गणमान्य अचीवमेंट अवार्ड
2004प्रौद्योगिकी के मानद डॉक्टरएशियन इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
2004उरुग्वे के ओरिएंटल गणराज्य की पदकउरुग्वे की सरकार
2001बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के मानद डॉक्टरओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी

FAQ

रतन टाटा के पत्नी का नाम क्या है?

रतन टाटा की कोई पत्नी नहीं है क्योंकि उन्होंने कभी शादी नहीं की थी।

टाटा ग्रुप की कुल संपत्ति कितनी है?

परिवार की सबसे बड़ी संपत्ति टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस में 18.4 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जो 103 अरब डॉलर की बिक्री वाली 30 फर्मों का समूह है।

रतन टाटा के माता पिता कौन थे?

नवल टाटा

टाटा मोटर्स की स्थापना कब हुई थी?

1945, Mumbai

टाटा स्टील का मालिक कौन है?

जमशेदजी टाटा

यह भी पड़े

what is cryptocurrency ?| क्रिप्टोकोर्रेंसी क्या है ? | News

Money Heist season 5 Volume 2 : Cast, Releas date, episodes

सैफ अली खान जीवन परिचय | saif ali khan biography in hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here